रोज 30 मिनट सैर करने से आपके शरीर को होते हैं इतने फायदे —-डिप्रेशन, चिंता, दर्द मे राहत, तनाव मे राहत मधुमेह, लॉस ऑफ वेटेज

Report manpreet singh 

Raipur chhattisgarh VISHESH : कोरोना महामारी (Corona epidemic) के कारण लॉकडाउन है, जिसके चलते लोग घरों से नहीं निकल पा रहे हैं. कोरोना से बचने के लिए लोग घरों में कैद हैं, लेकिन यहां पर वो कई तरह की बीमारियों (Diseases) का शिकार हो रहे हैं. करीब छह महीने से घर में बैठकर लोगों का वजन बढ़ गया है. देश भर में लोग डिप्रेशन (Depression) और चिंता (Anxiety) की समस्या से जूझ रहे हैं. दिन रात घर में रहने के कारण लोग चिड़िचिड़े होते जा रहे हैं.

लॉकडाउन में महिलाओं को घर और ऑफिस दोनों तरह का काम करना पड़ रहा है. पहले लोग हर दिन जिम में जाकर पसीना बहाते थे और खुद को फिट रखते थे, लेकिन आज जिम भी नहीं खुल रहे हैं. लॉकडाउन में तमाम तरह की परेशानियों और बीमारियों से बचने के लिए जरूरी है कि लोग खुद को तंदुरुस्त रखें. इसके लिए जरूरी है कि आप रोज कम से कम 30 मिनट के लिए सैर करें. इस बीच दौड़ें और एक्सरसाइज भी करें. हालांकि कोराना काल चल रहा है तो ऐसे में दौड़ते समय भी आपको सोशल डिस्टेंसिंग को ध्यान में रखना होगा.

इंडिया डॉटकाम की खबर के अनुसार हाल ही में एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि अगर आप लगातार हल्का व्यायाम करते हैं और प्रतिदिन करीब तीस मिनट पैदल सैर करते हैं तो आपको इसके कई शानदार रिजल्टस देखने को मिलेंगे. सैर करने से आपको शारीरिक लाभ के अलावा मानसिक लाभ भी हो सकते हैं. इस आर्टिकल में हम आपको सैर से होने वाले फायदों के बारे में बता रहे हैं….

1. डिप्रेशन: हालिया रिसर्च में कहा गया है कि जो लोग हर सप्ताह 6-9 मील चलते हैं उनमें बढ़ती उम्र के साथ याददाश्त कम होने की डिमेंशिया जैसी समस्या की आशंका कम होती है. याददाश्त बढ़ाने के लिए सैर करना सही होगा.

2. दर्द में राहत: पैदल चलने से हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द नहीं होता है और शरीर में फुर्ती बनी रहती है. ऐसा करने से शरीर की कार्यप्रणाली दुरुस्त होती है और शरीर एक्टिव रहता है.

3. तनाव से राहत: सुबह या शाम को सैर करने से एंडोरफिंस नामक न्यूरोपेप्टाइड्स सक्रिय होती है. इससे शरीर को आराम मिलता है. लोगों में बेचैनी और चिड़चिड़ेपन जैसे लक्षणों में भी सुधार आता है.

4. मधुमेह की संभावना कम होती है: यह एक आम बात है कि पैदल चलने से शरीर इंसुलिन का इस्तेमाल सही तरीके से कर पाता है. अगर आपको मधुमेह की संभावना है या आप उससे ग्रसित हैं तो हर खाने के बाद कुछ मिनट पैदल चलना आपके स्वास्थ के लिए जरूरी होता है.

5. वज़न बढ़ना रुकता है: पैदल चलने से बढ़ते बजन पर लगाम लगाती है. हर आदमी पैदल चलता है, लेकिन जो लोग प्रतिदिन करीब तीस मिनट पैदल चलते हैं उनका मेटाबोलिज़्म मज़बूत होता है. वो ज़्यादा कैलोरी बर्न कर पाते हैं. पैदल चलने को एक आसान ह्रदय व्यायाम माना जाता है जिसकी वजह से वज़न को संतुलित रखने में मदद मिलती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *